KVPY

के. वी. पी. वाई. के तहत चयनित अध्येताओं को पूर्व-पीएचडी स्तरों तक उदार छात्रवृत्ति प्रदान की जाती हैं।
अध्येताओं का चयन उन विद्यार्थियों में से किया जाता है जो अभी XI, XII तथा प्रथम वर्ष स्नातक (B.Sc./B.S./B.Stat./B.Math./Int. M.Sc./M.S.) कक्षा में मूलभूत विज्ञान (गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान तथा जीव-विज्ञान) का अध्ययन कर रहे हैं और वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए अभिरुचि रखते है। भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु में गठित विशेष समितियाँ आवेदनों की छंटनी एवं देश में विभिन्न केन्द्रों पर अभिक्षमता परीक्षा को संचालित करतीं हैं। अभिक्षमता परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर विद्यार्थियों की एक लघु-सूची तैयार की जाती है और इन विद्यार्थियों को साक्षात्कार के लिए आमंत्रित किया जाता है, जो चयन प्रक्रिया के अंतिम चरण है।  अभिक्षमता परीक्षा एवं साक्षात्कार, दोनों में प्रदर्शन के आधार पर विद्यार्थियों का शिक्षावृत्ति हेतु चयन किया जाता है।
सभी राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्रों में के. वी. पी. वाई. शिक्षावृत्ति के लिए विज्ञापन सामान्य रूप से प्रौद्योगिकी दिवस (मई 11) एवं जुलाई के दूसरे रविवार को प्रकाशित किया जाता है।
इस कार्यक्रम का उद्देश्य अनुसंधान के लिए आवश्यक प्रतिभा और अभिवृत्ति वाले विद्यार्थियों को पहचान कर, अध्धयन में उनकी प्रतिभा को पहचानने में मदद करना, विज्ञान में शोध को अपना करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करना और देश में अनुसंधान एवं विकास कार्य के लिए सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक प्रतिभा का विकास सुनिश्चित करना है।
किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (के. वी. पी. वाई.) मूलभूत विज्ञान के क्षेत्रों में शिक्षावृत्ति का एक राष्ट्रीय कार्यक्रम है, जिसकी पहल एवं वित्त पोषण विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा मूलभूत विज्ञान में अनुसंधान की दिशा में करियर जारी रखने के इच्छुक, असाधारण रूप से अभिप्रेरित विद्यार्थियों को आकर्षित करने के लिए की गई है।
  • विद्यार्थियों को किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना की परीक्षाओं में भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाता है |